privat browsing कीजिये वरना पछताना पड़ेगा

hello friends हम में से अधिकतर लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं. कुछ के पर्सनल pc/laptop है तो कुछ अपने मोबाइल में इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं. इंटरनेट एक ऐसी चीज है जिससे हमें बहुत सारी जानकारियां मिल जाती हैं.लेकिन कई बार इन जानकारियों को लेने के चक्कर में हम अपने बहुत ही Personal details को कई सारे वेबसाइट पर डाल देते हैं. कई बार हमें इंटरनेट पर कुछ ऐसे काम भी करते हैं जिन्हें हम नहीं चाहते हैं कि समाज या हमारे रिश्तेदार उनको देखें और यही वह चीज है जब इंटरनेट हमारे लिए मुसीबत बन जाता है.

privat browsing

Actually जब हम internet use करते हैं तो किसी भी चीज को या किसी भी तरह के Online activity के लिए हम ज्यादातर अपने web browser का इस्तेमाल करते हैं.दोस्तों आप लोग इस बात को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं कि जब हम किसी web browser का इस्तेमाल browsing के लिए करते हैं तो हमारे Online activity का पूरा रिकॉर्ड Browser History में सेव हो जाता है.हमने कौन-कौन सी site search की, कौन-कौन सी वेबसाइट खोल के देखा है, पूरी जानकारी सेव हो जाती है. जो कि हम नहीं चाहते हैं कि हमारे अलावा कोई दूसरा इस activity को देखें और जाने.

privat browsing

pc/laptop में या फिर Mobile browser के द्वारा दो तरह से browsing की जाती है.एक तो होती है कॉमन ब्राउज़िंग और एक होती है privat browsing. इन दोनों ब्राउज़िंग के लिए एक ही internet browser का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन मोड अलग-अलग होता है. कॉमन ब्राउज़िंग के लिए हम internet browser के कॉमन मोड का इस्तेमाल करते हैं जो generally ब्राउज़र ओपन करने के साथ ही ओपन हो जाता है.लेकिन अगर आप privat browsing करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपने ब्राउज़र में private mode ओपन करना पड़ता है.

कॉमन ब्राउज़िंग और privat browsing में अंतर

जब अपने pc/laptop या मोबाइल में इंटरनेट ब्राउज़ करने के लिए internet browser ओपन करते हैं तो वह कॉमन मोड में होता है और आपने जो भी चीजें ब्राउज की तो आपके Online activity का पूरा ब्यौरा browser के हिस्ट्री में सेव हो जाता है. आपने जिन वेबसाइट को विजिट किया वे सेव हो जाते है.आपने अगर कोई फाइल डाउनलोड किया तो वह भी सेव हो जाता है. जिसे बाद में कोई भी कभी भी देख सकता है.

But privat browsing में आप जो भी सर्च करते हैं या आपकी जो भी Online activity होती है वह Browser की हिस्ट्री में सेव नहीं होती है.यानी के आपने जिन जिन वेबसाइट को विजिट किया या आपने गूगल में जो सर्च किया क्या या आप ने कोई फाइल डाउनलोड किया तो यह सारी इनफार्मेशन आपके browser हिस्ट्री में सेव नहीं होंगे.इस तरह आपके Online activity को दूसरों के द्वारा देखे जाने का कोई चांस नहीं होगा.

privat browsing कैसे करें

Google Chrome browser में privat browsing

अगर आप Chrome browser का इस्तेमाल करते हैं तो सबसे पहले आप अपने browser को ओपन करें.इसके बाद privat browsing चालू करने के लिए आप Chrome browser के दाएं और ऊपर की तरफ देखें वहां आपको वर्टिकल थ्री डॉट्स नजर आएंगे उसको क्लिक करें जैसे ही आप क्लिक करेंगे आपको वहां कई सारे ऑप्शन नजर आएंगे इसमें से आपको तीसरा ऑप्शन New Incognito Window को क्लिक करना है.

private browsers

जब आप इस तीसरे ऑप्शन को क्लिक करेंगे तो आपके सामने एक new browser ओपन हो जाएगा जो कि काले कलर का होगा और यही private browser है.इसके द्वारा आप privat browsing कर सकते हैं.इस browser के द्वारा आप जो भी चीजें सर्च करेंगे या डाउनलोड करेंगे वह browser के सर्च हिस्ट्री में सेव नहीं होगा.

privat browsing

Google Chrome में प्राइवेट ब्राउज़र को ओपन करने के लिए आप चाहे तो शॉर्टकट्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. शॉर्टकट्स के द्वारा private browser को ओपन करने के लिए आप अपने कंप्यूटर कीबोर्ड में Ctrl+Shift+N बटन को एक साथ क्लिक करें आपके सामने काले कलर का private browser ओपन हो जाएगा.

privat browsing

Firefox Browser internet browser में privat browsing

फ्रेंड्स अगर आप Firefox internet browser का इस्तेमाल करते हैं तो इसमें भी privat browsing की सुविधा उपलब्ध है. Firefox Browser के मेनू में जाकर New private window को क्लिक कीजिए या फिर आप शॉर्टकट्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. शॉर्टकट्स के लिए आप अपने computer keyboard में कंट्रोल शिफ्ट का इस्तेमाल करें. ऐसा करते ही आपके कंप्यूटर में एक new window open हो जाएगी जो दरअसल New private window होगी.अब आप इसमें जो भी करेंगे वह Browser के सर्च हिस्ट्री में सेव नहीं होगा.

privat browsing

privat browsing कब और कहां जरूरी है

दोस्तों अगर आप अपना pc/laptop या Mobile internet surfing के लिए इस्तेमाल करते हैं तो privat browsing की कोई खास जरूरत नहीं है.क्योंकि आपके pc/laptop को आपके परमिशन के बिना कोई दूसरा ओपन नहीं करेगा और जैसा कि हम सब जानते हैं कि अधिकतर कंप्यूटर यूजर अपने pc/laptop में पासवर्ड डाल कर रखते हैं ताकि उनकी मर्जी के बिना कोई दूसरा उनके कंप्यूटर और लैपटॉप को ओपन न कर सके इसलिए खुद के PC या लैपटॉप में privat browsing करने की कोई खास वजह नहीं होती है.

लेकिन अगर आप किसी दूसरे के pc/laptop का इस्तेमाल करते हैं तो वहां जरूरी होता है कि आप privat browsing का इस्तेमाल करें.हम में से बहुत सारे ऐसे pc user हैं जो internet use करने के लिए या किसी तरह की ब्राउज़िंग के लिए cyber cafe का इस्तेमाल करते हैं.अगर आप भी cyber cafe का इस्तेमाल करते हैं तो cyber cafe में mostly privat browsing का ही इस्तेमाल करना चाहिए.

क्योंकि कई बार ब्राउज़िंग करने के बाद आदमी जल्दीबाजी में होता है और Browser History को डिलीट नहीं कर पाता है.so अगर आप privat browsing का इस्तेमाल करेंगे तो आपको ब्राउज़िंग हिस्ट्री सेव होने का कोई डर नहीं होगा यानी के आपके ऑनलाइन एक्टिविटी को कोई दूसरा नहीं देख पाएगा.इसलिए याद रखें कि कभी भी किसी दूसरे के कंप्यूटर या internet cafe का इस्तेमाल करने के दौरान आप हमेशा कंप्यूटर में privat browsing का इस्तेमाल करें.

private internet browser,google incognito browser,incognito browsers for android,incognito web browser,secret browser,browser apps,privat browsing,browser,4g browser,browser android,fastest browser for android,secure private browser,personal browser,mozila firefox for android.

Comments

  1. प्रतिक्रिया

  2. प्रतिक्रिया

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *