आधार की सुरक्षा के लिए वर्चुअल ID, नहीं देना होगा aadhaar number

aadhaar number

नमस्कार दोस्तों मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.दोस्तों आधार कार्ड के बारे में आप सब को जानकारी है और मुझे लगता है कि आप सबके पास आपका अपना आधार कार्ड है अगर नहीं है तो बहुत जल्दी बनवा लें क्योंकि आने वाले वक्त में आधार कार्ड और aadhaar number एक बहुत ही जरूरी दस्तावेज होगा हिंदुस्तान में रहने के लिए.

आधार नहीं तो कुछ नहीं

जैसा कि आप जानते हैं आजकल किसी भी सरकारी फैसिलिटी का इस्तेमाल करने के लिए आधार कार्ड और aadhaar number जरूरी है चाहे गैस सिलेंडर लेना हो चाहे बैंक में अकाउंट हो जाए मोबाइल सिम कार्ड हो हर चीज को आधार से लिंक करना जरूरी हो गया है अगर आपने अभी तक अपने बैंक अकाउंट को अपने मोबाइल सिम कार्ड को aadhaar number से लिंक नहीं कराया तो कृपया करा दें वरना आपका मोबाइल SIM बंद हो जाएगा आपके बैंक के अकाउंट को बंद कर दिया जाएगा.

दोस्तों आपने देखा होगा पिछले कुछ दिनों से लगातार अखबारों में और न्यूज़ चैनल्स पर आधार को लेकर कई तरह के समाचार लगाता रहा गए जिसमें बताया जा रहा है कि aadhar card information सुरक्षित नहीं है. कोई भी आम इंसान आधार कार्ड के बहुत सारे डेटा वह Google में सर्च करके डाउनलोड कर सकता है. मान लीजिए अगर आप का aadhar card information किसी और के पास चला गया तो उसका दुरुपयोग किया जा सकता है.

अब aadhaar number का गलत इस्तेमाल नहीं हो सकता है

आधार कार्ड उसके डाटा का दुरूपयोग ना हो सके इसके लिए सरकार ने कोई जरूरी कदम उठाए हैं जिनमें एक वर्चुअल ID है.

दोस्तों आधार कार्ड के डाटा की सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवालों के बीच भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने छू लिया सिक्योरिटी सिस्टम शुरू करने का फैसला किया है इसके तहत वर्चुअल आईडी और लिमिटेड केवाईसी के जरिए प्राइवेसी की सुरक्षा की जाएगी.

वर्चुअल ID दरअसल एक ऑप्शनल होगा या नहीं अगर कोई यूज़र किसी चीज की वेरिफिकेशन के लिए अपना 12 अंकों का aadhaar number नहीं देना चाहता है तो वह 16 डिजिट का एक वर्चुअल ID क्रिएट करके aadhaar number की जगह वेरिफिकेशन के लिए दे सकता है.

उदाहरण के तौर पर मान लीजिए आप एक सिम कार्ड लेना चाहते हैं जहां आपको अपना aadhaar number देना है और आप नहीं चाहते हैं कि आप वहां आप अपना aadhaar number या aadhar card details दे तो ऐसे में आप एक 16 डिजिट का Virtual id Create करके सिम विक्रेता को अपनी वेरिफिकेशन के लिए दे सकते हैं यह 16 Digit Virtual ID भारत सरकार द्वारा मान्य होगा.

Virtual id क्रिएट करने का तरीका

वर्चुअल ID 16 डिजिट का एक अस्थाई नंबर है जिसका इस्तेमाल aadhaar number या aadhar id की जगह पर किया जा सकता है वेरिफिकेशन हो या केवाईसी जिस चीज के लिए भी आधार नंबर की जरूरत है वहां आप यूआईडीएआई की वेबसाइट aadhaar portal से एक वर्चुअल ID तत्काल क्रिएट करके दे सकते हैं.

इस Virtual id की एक समय सीमा होगी समय सीमा ख़त्म होने के बाद इस Virtual id का इस्तेमाल दोबारा नहीं किया जा सकता है. लेकिन आप नया वर्चुअल आई डी जनरेट कर सकते हैं यानी मान लीजिए कि एक Virtual id की समय सीमा 24 घंटे है तो आप एक बार Virtual id जनरेट करके 24 घंटे में उसका इस्तेमाल कर सकते हैं. जब 24 घंटे खत्म हो जाएंगे तो वह वर्चुअल आई डी खुद-ब-खुद खत्म हो जाएगी मान्य नहीं होगी और अगर आपको फिर वर्चुअल आई डी जरूरत पड़ी तो आप दोबारा आधार के वेबसाइट aadhaar portal पर जाकर एक नया वॉइस मेल ID जनरेट कर सकते हैं जिसकी समय-सीमा अगले 24 घंटे तक की होगी.

एक वक्त में एक ही वर्चुअल आई डी वाली होगी नई जनरेट होते ही पुरानी खुद-ब-खुद कैंसिल हो जाएगी इसे आधार कार्ड धारक ही जनरेट कर सकता है एजेंसी डुप्लीकेसी नहीं कर पाएंगी Authentication के वक्त Fingerprint के साथ यही वर्चुअल ID भी देनी होगी.

आधार और aadhar card details की सुरक्षा के संदर्भ में सरकार द्वारा उठाए गए यह कदम बहुत ही महत्वपूर्ण है इस वर्चुअल ID के द्वारा आप सारे वेरिफिकेशन का काम पूरा कर सकते हैं वह भी बिना अपना aadhaar number और aadhar card details दिए हुए.यानी अब आप का aadhar card information लिक नहीं होगा.

तो दोस्तों आपको आज का यह मेरा पोस्ट कैसा लगा कमेंट के रूप में जरूर बताएं और अगर आपको मेरा पोस्ट पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ WhatsApp Twitter Facebook जैसे सोशल साइट पर शेयर करना ना भूलें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *